Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Religious Mantra, Festivals, Vrat katha, Poojan Vidhi

विविध धर्मों-त्यौहारों के रीति-रिवाज, पूजा पद्धति, धार्मिक मंत्रों का समग्र संकलन

193 Posts

160 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

श्री सरस्वती चालीसा- Saraswati Chalisa In Hindi

पोस्टेड ओन: 14 Apr, 2011 जनरल डब्बा में


माता सरस्वती को हम सभी ज्ञान की देवी की रुप में जानते है. उनके बिना आज के समय में जीवन में कामयाब होना बहुत मुश्किल है. आइयें हम भी ज्ञान की देवी मां सरस्वती के बारें में कुछ और ज्ञान प्राप्त करें.


Saraswati-Deviमाता सरस्वती


सरस्वती का जन्म ब्रह्मा के मुँह से हुआ था। वह वाणी की अधिष्ठात्री देवी है। ब्रह्मा अपनी पुत्री सरस्वती पर ही आसक्त हो गये। वे उसके पास गमन के लिए तत्पर हुए। सभी प्रजापतियों ने अपने पिता ब्रह्मा को न केवल समझाया, अपितु उनके विचार की हीनता की ओर भी संकेत किया।


हिन्दूधर्म में ज्ञान की देवी हैं- माँ सरस्वती

श्रीसरस्वती विद्या की देवी हैं। यह देवी मनुष्य समाज को महानतम सम्पत्ति-ज्ञानसम्पदा प्रदान करती है। वेदों में सरस्वती का वर्णन श्वेत वस्त्रा (जो श्वेत परिधान से आवरित है) के रूप में किया गया है। श्वेत पुष्प व मोती इनके आभूषण हैं, तथा श्वेत कमल गुच्छ पर ये विराजमान हैं। इनके हाथ में वीणा (सितार से मिलता-जुलता तारयुक्त वाद्य) शोभित है। वेद इन्हें जलदेवी के रूप में महत्ता देते हैं, एक नदी का नाम भी सरस्वती है। सरस्वती का पौराणिक इतिहास इन्हें उन धार्मिक कृत्यों से जोड़ता है, जो इन्हीं के नाम वाग्देवी के रूप में की जाती है तथा इनका संबंध बोलने व लिखने, शब्द की उत्पत्ति, दिव्यश्लोक विन्यास तथा संगीत से भी है।


Saraswati chalisaश्री सरस्वती चालीसा



जनक जननि पद्मरज, निज मस्तक पर धरि।बन्दौं मातु सरस्वती, बुद्धि बल दे दातारि॥

पूर्ण जगत में व्याप्त तव, महिमा अमित अनंतु।दुष्जनों के पाप को, मातु तु ही अब हन्तु॥

जय श्री सकल बुद्धि बलरासी।जय सर्वज्ञ अमर अविनाशी॥

जय जय जय वीणाकर धारी।करती सदा सुहंस सवारी॥

रूप चतुर्भुज धारी माता।सकल विश्व अन्दर विख्याता॥

जग में पाप बुद्धि जब होती।तब ही धर्म की फीकी ज्योति॥

तब ही मातु का निज अवतारी।पाप हीन करती महतारी॥

वाल्मीकिजी थे हत्यारा।तव प्रसाद जानै संसारा॥

रामचरित जो रचे बनाई।आदि कवि की पदवी पाई॥

कालिदास जो भये विख्याता।तेरी कृपा दृष्टि से माता॥

तुलसी सूर आदि विद्वाना।भये और जो ज्ञानी नाना॥

तिन्ह न और रहेउ अवलम्बा।केव कृपा आपकी अम्बा॥

करहु कृपा सोइ मातु भवानी।दुखित दीन निज दासहि जानी॥

पुत्र करहिं अपराध बहूता।तेहि न धरई चित माता॥

राखु लाज जननि अब मेरी।विनय करउं भांति बहु तेरी॥

मैं अनाथ तेरी अवलंबा।कृपा करउ जय जय जगदंबा॥

मधुकैटभ जो अति बलवाना।बाहुयुद्ध विष्णु से ठाना॥

समर हजार पाँच में घोरा।फिर भी मुख उनसे नहीं मोरा॥

मातु सहाय कीन्ह तेहि काला।बुद्धि विपरीत भई खलहाला॥

तेहि ते मृत्यु भई खल केरी।पुरवहु मातु मनोरथ मेरी॥

चंड मुण्ड जो थे विख्याता।क्षण महु संहारे उन माता॥

रक्त बीज से समरथ पापी।सुरमुनि हदय धरा सब काँपी॥

काटेउ सिर जिमि कदली खम्बा।बारबार बिन वउं जगदंबा॥

जगप्रसिद्ध जो शुंभनिशुंभा।क्षण में बाँधे ताहि तू अम्बा॥

भरतमातु बुद्धि फेरेऊ जाई।रामचन्द्र बनवास कराई॥

एहिविधि रावण वध तू कीन्हा।सुर नरमुनि सबको सुख दीन्हा॥

को समरथ तव यश गुन गाना।निगम अनादि अनंत बखाना॥

विष्णु रुद्र जस कहिन मारी।जिनकी हो तुम रक्षाकारी॥

रक्त दन्तिका और शताक्षी।नाम अपार है दानव भक्षी॥

दुर्गम काज धरा पर कीन्हा।दुर्गा नाम सकल जग लीन्हा॥

दुर्ग आदि हरनी तू माता।कृपा करहु जब जब सुखदाता॥

नृप कोपित को मारन चाहे।कानन में घेरे मृग नाहे॥

सागर मध्य पोत के भंजे।अति तूफान नहिं कोऊ संगे॥

भूत प्रेत बाधा या दुःख में।हो दरिद्र अथवा संकट में॥

नाम जपे मंगल सब होई।संशय इसमें करई न कोई॥

पुत्रहीन जो आतुर भाई।सबै छांड़ि पूजें एहि भाई॥

करै पाठ नित यह चालीसा।होय पुत्र सुन्दर गुण ईशा॥

धूपादिक नैवेद्य चढ़ावै।संकट रहित अवश्य हो जावै॥

भक्ति मातु की करैं हमेशा।निकट न आवै ताहि कलेशा॥

बंदी पाठ करें सत बारा।बंदी पाश दूर हो सारा॥

रामसागर बाँधि हेतु भवानी।कीजै कृपा दास निज जानी॥


॥दोहा॥


मातु सूर्य कान्ति तव, अन्धकार मम रूप।डूबन से रक्षा करहु परूँ न मैं भव कूप॥

बलबुद्धि विद्या देहु मोहि, सुनहु सरस्वती मातु।राम सागर अधम को आश्रय तू ही देदातु॥


Saraswati Chalisa


Janak Janani Pad Kamal Raj, Nij Mastak Par Dhaari,

Bandau Maatu Saraswati, Buddhi Bal De Daataari.

Purn Jagat Mein Vyaapt Tav, Mahima Amit Anantu,

Ramsaagar Ke Paap Ko, Maatu Tuhi Ab Hantu.

Jay Shri Sakal Buddhi Balaraasi, Jay Sarvagya Amar Avinaasi.


Jay Jay Veenaakar Dhaari, Karati Sadaa Suhans Savaari.
Roop Chaturbhujadhaari Maata, Sakal Vishv Andar Vikhyaata.


Jag Mein Paap Buddhi Jab Hoti, Jabahi Dharm Ki Phiki Jyoti.
Tabahi Maatu Le Nij Avataara, Paap Heen Karati Mahi Taara.


Baalmiki Ji The Baham Gyaani, Tav Prasaad Janie Sansaara.
Raamaayan Jo Rache Banaai, Aadi Kavi Ki Padavi Paai.


Kalidaas Jo Bhaye Vikhyaata, Teri Kripaa Drishti Se Maata.
Tulasi Sur Aadi Vidvaana, Bhaye Aur Jo Gyaani Nana.


Tinhahi Na Aur Raheu Avalamba, Keval Kripa Aapaki Amba.
Karahu Kripa Soi Maatu Bhavaani, Dukhit Din Nij Daasahi Jaani.


Putra Karai Aparaadh Bahuta, Tehi Na dharai Chitt Sundar Maata.
Raakhu Laaj Janani Ab Meri, Vinay Karu Bahu Bhaanti Ghaneri.


Mein Anaath Teri Avalamba, Kripa Karau Jay Jay Jagadamba.
Madhu Kaitabh Jo Ati Balavaana, Baahuyuddh Vishnu Te Thaana.


Samar Hajaar Paanch Mein Ghora, Phir Bhi Mukh Unase Nahi Mora.
Maatu Sahaay Bhai Tehi Kaala, Buddhi Viparit Kari Khalahaala.


Tehi Mrityu Bhai Khal Keri, Purvahu Maatu Manorath Meri.
Chand Mund Jo The Vikhyaata, Chhan Mahu Sanhaareu Tehi Maata.


Raktabij Se Samarath Paapi, Sur-Muni Hriday Dhara Sab Kampi.
Kaateu Sir Jim Kadali Khamba, Baar Baar Binavau Jagadamba.


Jag Prasidhdh Jo Shumbh Nishumbha, Chhin Me Badhe Taahi Tu Amba.
Bharat-Maatu Budhi Phereu Jaai, Ramachandra Banvaas Karaai.


Ehi Vidhi Raavan Vadh Tum Kinha, Sur Nar Muni Sab Kahu Sukh Dinha.
Ko Samarath Tav Yash Gun Gaana, Nigam Anaadi Anant Bakhaana.


Vishnu Rudra Aj Sakahi Na Maari, Jinaki Ho Tum Rakshaakaari.
Rakt Dantika Aur Shataakshi, Naam Apaar Hai Daanav Bhakshi.


Durgam Kaaj Dhara Par Kinha, Durga Naam Sakal Jag Linha.
Durg Aadi Harani Tu Maata, Kripa Karahu Jab Jab Sukhadaata.


Nrip Kopit Jo Maaran Chaahei, Kaanan Mein Ghere Mrig Naahei.
Saagar Madhy Pot Ke Bhange, Ati Toofaan Nahi Kou Sange.


Bhoot Pret Baadha Yaa Dukh Mein, Ho Daridra Athava Sankat Mein.
Naam Jape Mangal Sab Koi, Sanshay Isame Karai Na Koi.


Putrahin Jo Aatur Bhaai, Sabei Chhaandi Puje Ehi Maai.
Karai Path Nit Yah Chaalisa, Hoy Putra Sundar Gun Isa.


Dhupaadik Naivedy Chadhavei, Sankat Rahit Avashy Ho Jaavei.
Bhakti Maatu Ki Karei Hamesha, Nikat Na Aavei Taahi Kalesha.


Bandi Path Kare Shat Baara, Bandi Paash Door Ho Saara.
Karahu Kripa Bhavamukti Bhavaani, Mo Kahn Daas Sadaa Nij Jaani.

Doha


Maata Sooraj Kaanti Tav, Andhakaar Mam Roop,

Dooban Te Raksha Karahu, Paru Na Mein Bhav-Koop.

Bal Buddhi Vidya Dehu Mohi, Sunahu Sarasvati Maatu,

Adham Ramasaagarahi Tum, Aashray Deu Punaatu.



Tags: Aarti   HINDI   HINDI BLOG   Saraswati Chalisa   श्री सरस्वती चालीसा   Hindu's and Katha   Darshan   Amrit Dhara   Hanuman Chalisa   screen savers   Hindu Prayers   Aartis   Chalisas   Kathas   हिंदी ब्लॉग  

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter2LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित